Priyanka Gandhi attacked Narendra Modi | प्रियंका गांधी का मोदी पर तंज, कहा, चौकीदार अमीरों के होते हैं, किसानों के नहीं - Public News Ranchi

Breaking

Priyanka Gandhi attacked Narendra Modi | प्रियंका गांधी का मोदी पर तंज, कहा, चौकीदार अमीरों के होते हैं, किसानों के नहीं

प्रियंका गांधी का मोदी पर तंज, कहा, चौकीदार अमीरों के होते हैं, किसानों के नहीं 
priyanka-gandhi-attacked-narendra-modi
Public News Ranchi

प्रयागराज  - गंगा यात्रा के दौरान कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी सिरसा पहुंचीं। यहां उन्होंने सिरसा घाट के पास गेस्ट हाउस में सभा की। इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नाम के आगे चौकीदार लगाने को लेकर कहा, ''उनकी मर्जी (मोदी) अपने नाम के आगे क्या लगाएं? मुझे एक किसान भाई ने कहा कि देखिए चौकीदार तो अमीरों के होते हैं, हम किसान तो अपने खुद चौकीदार हैं।'' प्रियंका ने कहा, "मैं आज इसलिए घर से बाहर निकली हूं क्योंकि देश संकट में है। आपने कांग्रेस की सरकारें देखी हैं। लेकिन अब जनता की आवाज को दबाया जा रहा है। देश आपका है। इसकी हिफाजत आप करें। 45 सालों में रोजगार की इतनी कमजोर स्थिति कभी नहीं हुई।''

 भाजपा जनता को प्रताड़ित कर रही- प्रियंका 

 इससे पहले गंगा यात्रा के पहले पड़ाव में प्रियंका प्रयागराज जिले के दुमदमा पहुंचीं। यहां उन्होंने ग्रामीणों से मुलाकात की। इस दौरान केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा सत्ता को हाथ में पकड़कर सबको प्रताड़ित कर रही है। लोकतंत्र का मतलब है जनता की आवाज सुनी जाए। आज कोई नहीं सुन रहा। जनता अपनी मांग रखती है तो उस पर लाठीचार्ज किया जाता है। प्रियंका ने ग्रामीणों से कहा, आप ठीक तरह से सोचिए। समझिए फिर अपने वोट का इस्तेमाल कीजिए। कांग्रेस की सरकार में आपको मनरेगा मिला। जिन-जिन राज्यों में कांग्रेस की सरकारें बनीं, वहां किसानों के कर्ज माफ किए गए। जबकि भाजपा के राज में चुनिंदा उद्योगपतियों के ही कर्ज माफ किए गए।

मनैया घाट से शुरू की गंगा यात्रा 

 प्रयागराज के मनैया घाट से प्रियंका ने वाराणसी के लिए गंगा यात्रा शुरू की। स्टीमर पर ही उन्होंने छात्रों के एक प्रतिनिधिमंडल के साथ चर्चा की। इससे पहले प्रियंका ने संगम घाट पहुंचकर गंगा पूजन किया। फिर लेटे हनुमान मंदिर में पूजा-अर्चना की। प्रियंका ने सरस्वती कूप और अक्षयवट के दर्शन भी किए। वह रविवार रात लखनऊ से प्रयागराज पहुंच गई थीं। प्रियंका करीब 28 महीने बाद प्रयागराज आईं है। उन्होंने यहां पुश्तैनी मकान स्वराज भवन में रात्रि विश्राम किया।

 मंदिर में राजनीति की बातें नहीं-प्रियंका 

 हुनमान मंदिर में प्रियंका ने दर्शन कर रहे लोगों से मुलाकात की। कई लोगों ने उनके साथ सेल्फी भी खिंचवाई। जब मीडिया ने प्रियंका से बात करने की कोशिश की तो उन्होंने कहा कि मंदिर में राजनीति की बातें नहीं करूंगी। प्रियंका के साथ प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर, विधानसभा में कांग्रेस के नेता अजय सिंह लल्लू और भाजपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुईं सावित्री फुले भी हैं।

 माइक से गंगा किनारे खड़े लोगों से की बात 

 प्रियंका की यात्रा को देखते हुए बड़ी संख्या में गंगा किनारे बसे गांवों के लोग उन्हें देखने पहुंचे। प्रियंका ने स्टीमर में लगे माइक की मदद से लोगों का अभिवादन किया। प्रियंका अपनी लगभग 140 किलोमीटर लंबी गंगा यात्रा के दौरान कई मंदिरों में दर्शन करेंगी। विभिन्न स्थानों पर कार्यकर्ताओं और समाज के अलग-अलग वर्गों के लोगों से मुलाकात भी करेंगी। गंगा यात्रा का समापन 20 मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में होगा।

 यह है प्रियंका की गंगा यात्रा 

 प्रियंका मनैया घाट से नौका से लाक्षागृह (हंडिया) पहंचीं। इसके बाद सिरसा (मेजा क्षेत्र) जाएंगी। यहां से वह सीतामढ़ी पहुंचकर रात्रि विश्राम करेंगी। उसके बाद अगले दिन यानी मंगलवार के भी कार्यक्रम प्रस्तावित हैं। प्रियंका सबसे पहले मंगलवार को मढ़हा गांव (मिर्जापुर) पहुंचेंगी। फिर वह विंध्ययांचल दर्शन करने जाएंगी। यहां कार्यक्रम के बाद चुनार के लिए निकलेंगी। चुनार में वह शीतला माता के दर्शन करेंगी। यहां पर वह रात्रि विश्राम करेंगी। अगले दिन यानी 20 मार्च को वह वाराणसी के लिए निकलेंगी, जहां उनकी यात्रा अस्सी घाट पहुंचेगी।

 ढाई साल बाद आईं प्रयागराज 

 ढाई साल के अंदर प्रियंका का प्रयागराज का यह दूसरा दौरा है। इसके पहले वह 21 नवंबर 2016 को प्रयागराज आ चुकी हैं। तब सोनिया और राहुल गांधी भी साथ पहुंचे थे। आनंद भवन में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी पर फोटो एग्जीबिशन देखने के साथ तीनों ने कमला नेहरू ट्रस्ट की मिटिंग में शिरकत की थी। सक्रिय राजनीति में उतरने के बाद यह प्रियंका का प्रयागराज का पहला दौरा है। स्वराज भवन के आँगन में बैठे हुए वह कमरा दिख रहा है जहाँ मेरी दादी का जन्म हुआ। रात को सुलाते हुए दादी मुझे जोन ऑफ आर्क की कहानी सुनाया करती थीं। आज भी उनके शब्द दिल में गूँजते हैं। कहती थीं- निडर बनो और सब अच्छा होगा।

 25 शर्तों के साथ मिली मंजूरी 

 प्रियंका की इस हाइप्रोफाइल यात्रा को देखते हुए प्रशासन ने काफी सतर्कता के साथ मंजूरी दी है। कुल 25 शर्तों के साथ जिला मजिस्ट्रेट कार्यालय ने अनुमति दी है। प्रियंका को जल और सड़क मार्ग से जाने की अनुमति दी गई है। प्रियंका के काफिले में दो लाउडस्पीकर और दस वाहनों के शामिल होने को मंजूरी दी गई है। सुरक्षा का जिम्‍मा एसपीजी के पास रहेगा।

No comments:

Post a Comment