Consequence of Government Negligence | सरकार की लापरवाही का नतीजा - झारखंड के दो मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस सीटों पर बड़ा संकट - Public News Ranchi

Breaking

Consequence of Government Negligence | सरकार की लापरवाही का नतीजा - झारखंड के दो मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस सीटों पर बड़ा संकट

सरकार की लापरवाही का नतीजा - झारखंड के दो मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस सीटों पर बड़ा संकट 
consequence-of-government-negligence
Public News Ranchi

 झारखंड के तीन मेडिकल कॉलेजों में से दो कॉलेजों में फैकल्टी की स्थिति काफी खराब है। एमजीएम, जमशेदपुर और पीएमसीएच, धनबाद में चिकित्सा शिक्षकों के आधे से भी अधिक पद खाली हैं। इसका नतीजा राज्य के छात्रों को भुगतना पड़ सकता है। एमजीएम में जहां मेडिकल कौंसिल ऑफ़ इंडिया (एमसीआई) एमबीबीएस की सीटें घटा सकती है, वहीं पीएमसीएच में पिछले साल घटी सीटों की वापसी भी मुश्किल होगी। दोनों मेडिकल कॉलेजों में चिकित्सा शिक्षकों के 544 पद स्वीकृत हैं, जिनमें 316 पद रिक्त पड़े हैं। पीएमसीएच, धनबाद में 560 बेड के अस्पताल के लिए स्वीकृत 271 पदों में से 168 पद एवं एमजीएम, जमशेदपुर में 629 बेड के अस्पताल के लिए स्वीकृत 273 पदों में से 148 पद रिक्त हैं। इन पदों में प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर, असिस्टेंट प्रोफेसर, ट्यूटर व सीनियर रेजीडेंट के पद शामिल हैं। एमजीएम, जमशेदपुर में एक मात्र एसोसिएट प्रोफेसर ही ऐसा पद है, जिसमें स्वीकृत 43 पद के विरुद्ध 54 कार्यरत हैं। अगर दोनों मेडिकल कॉलेज में रिक्त पड़ी इन सीटों को जल्द नहीं भरा गया तो एमबीबीएस सीटों का नुकसान हो सकता है। चिकित्सा शिक्षकों की कमी के कारण मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया ने बीते वर्ष एमजीएम, जमशेदपुर और पीएमसीएच, धनबाद में एमबीबीएस की सीटें आधी कर दी थीं। दोनों कॉलेज की सीटें 100-100 से घटाकर 50-50 कर दी थीं। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट की पहल पर एमजीएम में तो 100 सीटें बहाल कर दी गईं, लेकिन पीएमसीएच की घटी सीटें नहीं बढ़ सकीं। तब राज्य की रघुवर सरकार ने एमसीआई से वादा किया था कि वह समय रहते रिक्तयों को पूरा कर लेगी। बावजूद इसके अबतक इन दोनों मेडिकल कॉलेजो में रिक्तियों को नहीं भरा गया है। यदि जुलाई तक रिक्तयों को नहीं भरा गया तो पीएमसीएच की घटी सीटें तो नहीं ही बढ़ेंगी, एमसीआई एमजीएम की सीटें भी घटा सकती हैं। हालांकि, विभाग का कहना है कि दोनों मेडिकल कॉलेजों में असिस्टेंट प्रोफेसर की नियुक्ति के लिए जेपीएससी द्वारा विज्ञापन प्रकाशित कर दिया गया है। रिक्तियों में सबसे ज्यादा संख्या असिस्टेंट प्रोफेसर की है। अन्य पदों की रिक्तियों को भी भरने का प्रयास किया जा रहा है।

No comments:

Post a Comment