The country was not able to recover from the grief of the martyrs of Pulwama |अभी पुलवामा के शहीदों के गम से देश उबर भी नहीं पाया था की इन नेताओ ने - Public News Ranchi

Breaking

The country was not able to recover from the grief of the martyrs of Pulwama |अभी पुलवामा के शहीदों के गम से देश उबर भी नहीं पाया था की इन नेताओ ने

अभी पुलवामा के शहीदों के गम से देश उबर भी नहीं पाया था की इन नेताओ ने एक दुसरे को अबीर गुलाल लगाकर ठाठ से होली मिलन का आनंद लिया।

The country was not able to recover from the grief of the martyrs of Pulwama
Ranchi News

भावार्थ : दूसरों की कमियां देखकर हंसना सभी को आता है। ऐसा करनेवाले लोग हंसते वक्त यह भूल जाते हैं कि कमियां उनके अपने अंदर भी हैं। ऐसी कमियां जिनका कोई अंत नजर नहीं आता।
रांची के प्रतिष्ठित सत ज़ेवियर कॉलेज के वार्षिकोत्सव को भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव की आपत्ति के बाद रद्द करवा दिया गया था। वार्षिकोत्सव 16 फरवरी से शुरू होना था, मगर पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद देश ने अपने 40 बहादुर जवानो को खो दिया था। जिस वजह से श्रद्धांजलि स्वरुप ज़ेवियर कॉलेज ने अपने फेस्ट की मियाद को दो दिनों तक आगे बढ़ा दिया था। इतना ही नहीं कॉलेज ने शहीद जवानो को श्रद्धांजलि देने के लिए 15 फरवरी को बारिश में भीगते हुए कैंडल मार्च और शोकसभा का आयोजन भी किया था। कॉलेज फेस्ट में भी देशभक्ति की भावना सैलाब की शक्ल में बाहर आ रही थी। मगर सियासत के गिद्धों की नजर तो मानो प्रतिभाशाली छात्रों के हुनर को चीरकर निवाला बनाने के लिए आमादा थी। चित्त में अहंकार का ज्वार उठाये भारतीय जनता पार्टी के नेताओ ने आरयू के कुलपति से मुलाकात की और फेस्ट को तत्काल रोकने की मांग की। प्रतुल शाहदेव ने फेस्ट पर सवाल उठाते हुए कहा की जिस वक़्त देश में शोक की लहर है, ऐसे में कॉलेज के अंदर 'नाच, गाना' निंदनीय है। जिसके बाद फेस्ट को बीच में ही रद्द करवा दिया गया। कला को कुचलकर देशभक्ति का झंडा बुलंद करने की हड़बड़ाहट इतनी थी की कुलपति रमेश पांडेय छुट्टी होने के बावजूद आरयू मुख्यालय पहुंचे और बाकायदा फोन पर महीनो से जिस वर्षकोत्सव की तैयारी चल रही थी, उसे रद्द करने का फरमान सुना दिया। मगर देशभक्ति की तालीम पढ़ाने वाले भाजपाइयों का सब्र तो शहादत की तेरहवी का इंतज़ार भी ना कर सकी। होली के अबीर गुलाल में श्रद्धांजलि और शोक की तिलांजलि देकर सत्ता के नशे में मदान्द इन सियासी गोचरो ने जश्न मनाना शुरू कर दिया। समीर उरांव ने नाच गाने से सराबोर एक निजी स्कूल के वार्षिकोत्सव का उद्घाटन किया तो सांसद रामटहल चौधरी, मेयर आशा लकड़ा, उपमहापौर संजीव विजयवर्गीय समेत भाजपा नेताओ ने तो होली की खुशियां बांटनी भी शुरू कर दी। अभी पुलवामा के शहीदों के गम से देश उबर भी नहीं पाया था की इन नेताओ ने एक दुसरे को अबीर गुलाल लगाकर ठाठ से होली मिलन का आनंद लिया। वाह रे बीजेपी, नेता तो नेता, मुखिया भी कम नहीं है, हर रोज शिलान्यास और लोकार्पण की मिठाइयां बंट रही है। खैर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भी कहा था - हमला हुआ तो क्या हुआ, देश रुकना नहीं चाहिए।

No comments:

Post a Comment