Wheat grass Benefits | एक बार ये पौधा घर में लगा लिया तो बदल देगा आपकी लाइफ - Public News Ranchi

Breaking

Wheat grass Benefits | एक बार ये पौधा घर में लगा लिया तो बदल देगा आपकी लाइफ

 एक बार ये पौधा घर में लगा लिया तो बदल देगा आपकी लाइफ

Wheat-grass-Benefits
Wheat grass

दोस्तों पेड पौधे घरों में लगाने का शौक काफी लोग रखते हैं। लेकिन फूलों के पौधे ही अधिक लगाए जाते हैं। क्योंकि ये सुन्दर लगते हैं। लेकिन आज हम आपको एक ऐसा पौधा बताने जा रहे हैं जो आपने एक बार घर में लगा लिया तो आपकी लाइफ बदल जाएगी। क्योंकि आयुर्वेद में इस पौधे को संजीवनी से कम नहीं माना है। इसका उपयोग भी हम आपको बताएंगे कि कैसे करना है।


  How to plant this plant किस तरह लगाएं यह पौधा



सबसे पहले आप एक ऐसा पात्र लें जो की चौड़ाई में अधिक हो। यह मिट्टी का हो तो अधिक अच्छा है। यदि आपके घर में पौधे लगाने के लिए कच्ची जमीन है तो बहुत अच्छा। नहीं है तो मटकी को आधा काटकर उसका गमला नुमा बना लें और उसमें मिट्टी भरकर भी यह पौधा  लगा सकते हैं। अब इसमें मिट्टी व गोबर की खाद मिलाकर इसमें गेहूं या जौ बो दें। जब यह उग आएं तो इनकी सार संभाल करें कि कहीं कोई रोग नहीं लग जाए। इस पर किसी प्रकार की दवा नहीं छिडक़नी है। जब यह करीब छह सात इंच के हो जाएं तो गेहूं के जवारे बन जाएंगे। अक्सर हम नवरात्री में इन्हें उगाते हैं।

What are the advantages of this plant क्या क्या फायदे हैं इस पौधे के

Wheat-grass-Benefits
Wheat grass

गेहूं के इन जवारों को आयुर्वेद में संजीवनी से कम नहीं बताया गया। यदि इनका नियमित सेवन किया जाए तो खून की कमी नहीं होगी और एनिमिया से बचे रहेंगे। महिलाओं में यह रोग अधिक होता है। यह ब्लड प्रेशर भी सही रखता है। हीमोग्लोबिन बढ़ाता है और मुंह के अनेक रोग दूर करता है। आंतों के रोग पाचन शक्ति ठीक करना किडनी के रोग चर्म रोग आदि सब में यह फायदेमंद होता है।

How to use : कैसे करें उपयोग


गेहूं के इन जवारों को चबाया भी जा सकता है। यदि ऐसा नहीं कर पाएं तो इनका जूस बनाकर प्रतिदिन सेवन करें। हो सके तो इसमें कुछ नहीं मिलाएं। ऐसे ही पीने की कोशिश करें। यह स्वाद में इतना बुरा नहीं होता।

Keep these things in mind : इन बातों का रखें ध्यान

शुरूआत में ज्वारे का रस पीने से आपको एक सप्ताह या कुछ दिन काले दस्त हो सकते हैं। घबराना नहीं है। यह आपके पेट की सफाई कर रहा होता है। क्योंकि सभी विकार पेट के कारण ही होते हैं। ऐसा होने पर दवा लेने की जरूरत भी नहीं है। आपको परेशानी हो तो दो दिन जवारे का रस पीना बंद कर दें और बाद में फिर शुरू करें। इसे जारी रखना है।

No comments:

Post a Comment