Pulwama assault: Beggar woman wins heart, beggars mobilized 6 lakh to name martyrs | पुलवामा हमला: भिखारी महिला ने दिल जीता, भिखारियों ने शहीदों के नाम 6 लाख जुटाए - Public News Ranchi

Breaking

Pulwama assault: Beggar woman wins heart, beggars mobilized 6 lakh to name martyrs | पुलवामा हमला: भिखारी महिला ने दिल जीता, भिखारियों ने शहीदों के नाम 6 लाख जुटाए

 पुलवामा हमला: भिखारी महिला ने दिल जीता, भिखारियों ने शहीदों के नाम 6 लाख जुटाए




खास बातें 
Beggar-woman
Beggar Woman


  • राजस्थान में रहने वाली भिखारी महिला ने जीता दिल
  •  शहीदों के परिजनों की मदद के लिए 6 लाख कर दिये दान 
  • पुलवामा हमले में शहीद हो गए थे 40 जवान 


नई दिल्ली : पुलवामा के शहीदों (Pulwama Terror Attack) के परिवारों की मदद के लिए देशभर से तमाम लोग सामने आ रहे हैं. अब राजस्थान से जो खबर सामने आई है, उसे सुनकर आपकी आंखों में आंसू आ जाएंगे. दरअसल, राजस्थान के अजमेर में भीख मांग कर गुज़ारा करनेवाली एक महिला ने शहीदों के परिवारों के लिए छह लाख रुपये की रक़म डोनेट की है.

 इस महिला ने मंदिर के बाहर सालों भीख मांग कर ये रक़म जुटाई थी, लेकिन शहीद के परिवारों की मदद के लिए एक झटके में ही सारी रकम डोनेट कर दी. आपको बता दें कि इससे पहले रिलायंस फाउंडेशन और मोरारी बापू समेत तमाम लोग शहीदों के परिजनों की मदद को आगे आ चुके हैं. बिहार के शेखपुरा की डीएम इनायत खान (Inayat Khan) ने दो जवान की बेटियों को गोद लेने का फैसला लिया. वहीं अमेरिका में रहने वाले भारतीय मूल के 26 वर्षीय विवेक पाटिल ने 6 दिन में 6 करोड़ इकट्ठे कर लिए हैं.

 26 साल के इस लड़के ने 6 दिन में ऐसे जमा किए 6 करोड़ रुपये, शहीदों के परिवार को करेगा Donate

 26 वर्षीय विवेक पटेल यूएस में रहते हैं. उन्होंने फंड रेज करने के लिए फेसबुक पर एक पेज बनाया. विवेक ने 15 फरवरी को फेसबुक पर पेज इसलिए बनाया क्योंकि वो यूएस के क्रेडिट और डेबिट कार्ड से डोनेट नहीं कर पा रहे थे. CRPF में पैसे डोनेट करने का टारगेट 5 लाख डॉलर (3.5 करोड़ रुपये) रखा था. लेकिन उनके इस पेज से 6 दिन में 22 हजार लोग जुड़े और 850,000 डॉलर इकट्ठे हो गए. लोग विवेक की काफी तारीफ कर रहे हैं. आपको बता दें कि जम्मू एवं कश्मीर (Jammu-Kashmir) के पुलवामा (Pulwama) में 14 फरवरी को सीआरपीएफ (CRPF) के काफिले पर हुए हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे. इसके एक दिन बाद, मेजर चित्रेश सिंह नियंत्रण रेखा के पास आईईडी को डिफ्यूज करते वक्त शहीद हो गए थे. जबकि 18 फरवरी को, मेजर विभूति शंकर ढौंडियाल समेत चार जवान एक मुठभेड़ में शहीद हो गए. बाद में सेना ने एक मुठभेड़ में पुलवामा हमले के मास्टरमाइंड को मार गिराया था.

No comments:

Post a Comment